Header Ads

Happy Vijayadashami {{4K HD*}} Wallpapers Images, Pics 2018

विजयदशमी हिंदुओं के द्वारा बनाने वाला भारत का एक प्रमुख त्योहार है। यह त्यौहार हर साल अक्टूबर के महीने में अश्विन पर चंद्र मास में आता है। दशहरा बुराई के ऊपर अच्छाई की जीत के रूप में मनाया जाता है, इस त्यौहार को विजयदशमी का भी नाम दिया गया है। बहुत दिन पहले महिषासुर नामक एक राक्षस पैदा हुआ था। भैंस के रूप में पैदा हुआ था महिषासुर इसलिए उसका नाम है यह रखा गया था। महिषासुर ना केवल शक्तिशाली परंतु बहुत ही दुष्ट राक्षस हां। महिषासुर ब्रह्मांड के तीनों लोको को जीतने के लिए ब्रह्मा जी से प्रार्थना करने लगा और तपस्या करने लगा। उसकी तपस्या को देख कर ब्रह्मा जी ने उसे वरदान मांगने को कहा तो महिषासुर ने वरदान मांगा की ब्रह्मांड का कोई भी व्यक्ति उसे मार ना सके। ब्रह्मा जी ने उसे वरदान दे दिया।
Also Checkout :- Happy Dussehra Images Wallpapers 2018

Vijayadashami images 2018 Free Download




यह वरदान पाते हैं महिषासुर और भी शक्तिशाली हो गया और उसका अत्याचार लोगों और देवताओं पर बढ़ गया। सभी देवता महिषासुर से परेशान हो गए और थक हारकर अंत में ब्रह्मा जी से मदद मांगने के लिए उपस्थित हुए। तभी ब्रह्मा जी ने बताया कि महिषासुर को जो वरदान मिला है उसमें कोई भी व्यक्ति महिषासुर का वध नहीं कर सकता परंतु सिर्फ एक औरत महिषासुर को अवश्य युद्ध में पराजित कर सकती है। तभी भगवान विष्णु, ब्रह्मा जी और शिव जी ने मिलकर मां दुर्गा देवी का आविष्कार किया, जिन्हें सभी देवताओं ने हथियार और शक्ति प्रधान किया।




Dussehra 2018 or Vijayadashami Date & Time

Vijayadashami 2018 Date & Time
19th October 2018 (Friday)
Dussehra, Vijayadashami 2018 in India
मां दुर्गा बहुत ही शक्तिशाली थी और उनमें किसी भी राक्षस को हराने की अपार क्षमता थी। मां दुर्गा महिषासुर से युद्ध करने के लिए निकल पड़ी यह देखकर महिषासुर ने तुरंत चुनौती स्वीकार किया और अपने घमंड में आकर मां दुर्गा से युद्ध करने का साहस स्वीकार किया। महिषासुर ने कई रूप लेकर मां दुर्गा से युद्ध करने लगा, जिसमें उसका सबसे अव्वल रूप भैंस का रूप था। परंतु मां दुर्गा ने महिषासुर को इस 9 दिनों की लड़ाई में मार दिया और मां दुर्गा ने इस लंबी युद्ध का समाप्त कर दिया। महिषासुर के वध के अवसर पर सभी देवताओं ने मां दुर्गा का स्वागत किया और विजयदशमी के रूप में भी इस त्यौहार को मनाना शुरू कर दिया। इस त्यौहार में मां दुर्गा की पूजा होती है और इस त्यौहार में बुराई पर अच्छाई की जीत को दर्शाया जाता है। 9 दिनों तक चलने वाला विजयदशमी का त्यौहार को नवरात्रि के रूप में भी बुलाया जाता है और जैसे के विजयदशमी के दिन महिषासुर पर विजय प्राप्त हुई थी, तो इस दिन को दशहरा के रूप में भी पुकारा जाता है। नवरात्रि के समय मां दुर्गा के विभिन्न अवतारों की पूजा की जाती है और उनसे आशीर्वाद लिया जाता है। मां दुर्गा की पूजा सबसे ज्यादा प्रसिद्ध पश्चिम बंगाल में है जहां पर दुर्गा मां की मूर्तियां विभिन्न रूप में बनाई जाती है। पूरे भारतवर्ष में दशहरा धूमधाम से मनाया जाता है यह दिन सभी हिंदू और विभिन्न जाति के लोगों के लिए बहुत ही बड़ा दिन होता है। हमारी तरफ से आप सभी लोगों को विजयदशमी की हार्दिक शुभकामनाएं और हम उम्मीद करते हैं कि मां दुर्गा आप सभी लोगों पर अपना आशीर्वाद बना के रखें और आप हमेशा खुशहाल जीवन व्यतीत करें।
Powered by Blogger.